बिहारी युवा कश्मीरी आतंकी का हो रहे इस्तेमाल, एक की हुई गिरफ्तारी

बिहारी युवा कश्मीरी आतंकी का हो रहे इस्तेमाल, एक की हुई गिरफ्तारी

पटना: जम्मू कश्मीर के कुछ संगठन की तार बिहार के सीमावर्ती इलाकों से जुड़ने का मामला सामने आने लगा है। ये संगठन बिहार के युवाओं को अपनी जाल में आर्थिक मदद के माध्यम से फंसाने लगे हैं। जम्मू कश्मीर के नाम आतंकी संगठन सीमांचल क्षेत्र के युवाओं को कथित तौर पर टेरर फंडिंग के लिए काम पर रहे हैं। इस बात का जांच में खुलासा हुआ है। बिहार के युवाओं को ये आतंकी संगठन नेपाल से जम्मू और कश्मीर में नकली भारतीय मुद्रा नोटों के परिवहन के लिए ‘कमीशन’ के रूप में अच्छे पैसे दिए थे। एक आरोपी मो. परवेज से पूछताछ के दौरान चौंकाने वाला मामला सामने आया है। दरअसल मो. परवेज को अररिया जिले में भारत-नेपाल सीमावर्ती चौकी क्षेत्र से एसएसबी ने धर दबोचा, उसके पास से एसएसबी को 500.65 लाख मिले जिसे जब्त कर लिया गया है। परवेज ने खुलासा करते हुए कहा कि वो जम्मू-कश्मीर और महाराष्ट्र के कुछ लोगों के बैंक खातों में निजी बैंकों के ग्राहक सेवा बिंदुओं के प्रभारी की मदद से पैसा जमा करता था। जब पुलिस को इस पर शक हुई तो उसने परवेज का जो मोबाइल फोन जब्त किया था उसमें एकाउंट नंबर भी मिले हैं। एसएसबी की 52 वीं बटालियन के सेकेंड कमांडर ब्रजेश कुमार सिंह ने कहा कि परवेज को एक बाइक पर नेपाल से भारतीय क्षेत्र में प्रवेश करने की कोशिश करते हुए पकड़ा गया था।
ज्ञात हो कि अररिया जिले के सिकटी थाना क्षेत्र के वार्ड नंबर-13 का रहने वाला है परवेज। पूछताछ के बाद जिला पुलिस को सौंप दिया गया। सिकटी पुलिस ने उसके खिलाफ नकली नोटों को लेकर मामला दर्ज किया है। वहीं सिकटी पुलिस स्टेशन के थानेदार ओमप्रकाश के मुताबिक ‘परवेज नेपाल में रंगीली के एक जूलर से नकली भारतीय करेंसी नोटों की खेप हासिल करता था। उसका बड़ा भाई मोहम्मद तबरेज भी लंबे समय से इस काले कारोबार में शामिल था। आईबी के अधिकारियों और अन्य सुरक्षा एजेंसियों द्वारा परवेज से पूछताछ की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *