उमेश कुशवाहा बने जदयू प्रदेश अध्यक्ष, लव-कुश समीकरण पर नीतीश ने जताया भरोसा

उमेश कुशवाहा बने जदयू प्रदेश अध्यक्ष, लव-कुश समीकरण पर नीतीश ने जताया भरोसा

पटनाः बिहार की सियासत में नीतीश कुमार की कार्यशैली की जहां चर्चाएं होती रहती हैं वहीं बिहार जदयू के नए अध्यक्ष  उमेश कुशवाहा को ये कमान सौंपी गई है। जदयू राज्य कार्यकारिणी की बैठक के दूसरे दिन निवर्तमान प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने अपनी अस्वस्थता की वजह से पद छोड़ने का फैसला लिया। उमेश कुशवाहा को जदयू प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी दिए जाने के पीछे कई कारण माने जा रहे हैं। सबसे अहम वजह है कि अभी वो युवा हैं। पार्टी को एक युवा नेतृत्व की जरूरत है। उमेश कुशवाहा जदयू से विधायक रह चुके हैं। 2020 के विधानसभा चुनाव में वह महनार विधानसभा सीट से एनडीए के उम्मीदवार थे। हालांकि, राजद के टिकट पर चुनाव लड़ने वाली बीना सिंह ने जदयू के उमेश सिंह कुशवाहा को हरा दिया।बिहार चुनाव में जदयू की ओर से उमेश सिंह कुशवाहा का सीधा मुकाबला राजद की बीना सिंह से था। लेकिन लोजपा नेता रविंद्र सिंह के चुनाव मैदान में आने से लड़ाई त्रिकोणीय हो गई। मतगणना में उमेश कुशवाहा को 53774, आरजेडी की बीना सिंह को 61721 और एलजेपी के रविंद्र कुमार सिंह को 31315 वोट मिले। इस तरह से कड़े मुकाबले में उमेश कुशवाहा को शिकस्त का सामना करना पड़ा। पिछले विधानसभा चुनाव में उमेश कुशवाहा ने यहां से जीत दर्ज की थी। नीतीश कुमार ने जिस तरह से उमेश कुशवाहा पर अपना भरोसा जताया इससे उन्होंने खास सियासी संकेत देने की कोशिश की है। उन्होंने स्पष्ट कर दिया कि अपने लव कुश समीकरण पर ही आगे बढ़ना चाहते हैं। ये पहली बार नहीं है इससे पहले आरसीपी सिंह को जदयू का अध्यक्ष बनाने में भी उनकी यही रणनीति थी। नीतीश चाहकर भी लवकुश समीकरण नहीं छोड़ पाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *