गंभीर संकट के समय में एकजुट होकर महामारी से करना होगा मुकाबला : प्रो. रणबीर नंदन

गंभीर संकट के समय में एकजुट होकर महामारी से करना होगा मुकाबला : प्रो. रणबीर नंदन


पटनाः जनता दल यूनाइटेड के पूर्व विधान पार्षद प्रो. रणबीर नंदन ने कहा कि कोरोना का संकट बड़ा है, लेकिन अभी अधिक पैनिक होने की जरूरत नहीं है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों की मानें तो प्रदेश में 33,466 एक्टिव केस है, जबकि प्रदेश की आबादी करीब 13 करोड़ है। वहीं, दिल्ली की आबादी करीब 1.93 करोड़ है और एक्टिव केस की संख्या 61,005 है। इस लिहाज से अपना प्रदेश अभी काफी हद तक बचा हुआ है। किसी एक व्यक्ति की मौत भी सही नहीं ठहराई जा सकती। लेकिन, देश के लिहाज से कोरोना से मौत के मामले में भी प्रदेश अभी गंभीर स्थिति में नहीं है। दिल्ली में पिछले 24 घंटों में 141 मौत दर्ज की गई, जबकि प्रदेश में करीब 13। है।
डा. नंदन ने कहा कि बड़े व जनसंख्या घनत्व में लगभग समान राज्यों की तुलना में भी बिहार बेहतर स्थिति में है। महाराष्ट्र में 63,729 नए केस दर्ज किए गए हैं। प्रदेश की आबादी करीब 13 करोड़ है। प्रदेश में एक्टिव केस 6.39 लाख से अधिक हैं। वहीं, उत्तर प्रदेश की आबादी 23 करोड़ से अधिक है। वहां 27,360 नए केस सामने आए हैं। 1.50 लाख से अधिक एक्टिव केस हैं। कर्नाटक में 14,859 नए केस आए हैं और वहां एक्टिव मामलों की संख्या 1.07 लाख के पार चली गई है। तमिलनाडु में भी 8449 नए केस दर्ज किए गए हैं और एक्टिव केस बढ़कर 61 हजार पार हो गए हैं। इस हिसाब से प्रदेश की स्थिति को सुधारने की कोशिश हो रही है।
डा. नंदन ने कहा कि ऑक्सीजन की कमी हो या रेमेडीसिविर की उपलब्धता और अस्पतालों में बेड की उपलब्धता, तमाम बिंदुओं पर सरकार लगातार काम कर रही है। कोरोना का संकट बड़ा है। इस गंभीर समय में प्रदेश के सभी लोगों को एकजुट होकर मानवता की रक्षा में जुटना चाहिए। यह समय राजनीति करने का नहीं है। ऐसे गंभीर समय में अन्य राज्यों का उदाहरण हमारे सामने है। हर कोई एकजुट होकर महामारी का मुकाबला करने की कोशिश कर रहा है। हमारे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और पूरी सरकार इस संकट से निपटने की कोशिश में जुटी हुई है। सरकार के स्तर पर स्वास्थ्य सुविधाओं को लगातार बढ़ाया जा रहा है। कम से कम लोगों को परेशानी हो, इसके प्रयास किए जा रहे हैं।
डा. रणबीर नंदन ने कहा कि कोरोना वायरस का यह बदला हुआ स्ट्रेन वैज्ञानिकों को भी परेशान किए हुए है। जिस तेजी से यह फैल रहा है, उसे रोकने के लिए किस प्रकार के कदम उठाए जाएं, यह तय नहीं हो पा रहा है। राज्य सरकार ने समस्या से निपटने के लिए टेस्टिंग, ट्रेसिंग व ट्रीटमेंट की रणनीति पर लगातार काम करना शुरू किया है। देश में हमारे यहां संक्रमण दर अभी काफी कम है। राष्ट्रीय स्तर पर संक्रमण का मामला करीब 13 फीसदी का है। वहीं, प्रदेश में 4.1 फीसदी लोग संक्रमित पाए जा रहे हैं। सरकार की पूरी मशीनरी इस संकट से लोगों को बचाने की कोशिश में लगी है। हर कोई अपने-अपने तरीके से इस महामारी से निपटने की कोशिश में लगा हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *