बिहार-झारखंड का 10 साल से फरार ‘किडनैपर किंग’ चंदन सोनार मध्य प्रदेश से गिरफ्तार

बिहार-झारखंड का 10 साल से फरार ‘किडनैपर किंग’ चंदन सोनार मध्य प्रदेश से गिरफ्तार

कहते हैं अपराध करने वाला एक न एक दिन पुलिस की गिरफ्त में आ ही जाता है। बिहार-झारखंड में ‘किडनैपर किंग’ कहा जाने वाला चंदन सोनार मध्‍य प्रदेश के सिंगरौली से गिरफ्तार हो गया है। चंदर सोनार के आतंक का कारोबार देश के चार राज्‍यों बिहार, झारखंड, छत्‍तीसगढ़, गुजरात और पश्चिम बंगाल तक फैला था। चंदन सोनार का आतंक ऐसा थी कि उसका नाम सुनते ही बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़, गुजरात और पश्चिमबंगाल के कई उद्योगपति और व्‍यापारी कांप जाते हैं। कई व्यापारियों का अपहरण कर वह करोड़ों की फिरौती वसूल चुका है। पिछले 10 सालों से वह मध्‍य प्रदेश के सिंगरौली जिले में अपनी पहचान बदलकर होटल कारोबारी चंद्रमोहन के नाम से रह रहा था। हलांकि चंदन सोनार ने सिंगरौली में कोई क्राइम भी नहीं किया।
ज्ञात हो कि चंदन रांची में होटल कावेरी के संचालक लव भाटिया, ज्वेलर परेश मुखर्जी, जमीन कारोबारी मदन सिंह के बेटे के अपहरण में था शामिल। रांची के ही अपराधियों के साथ मिलकर गुजरात के हीरा व्यवसायी सोहैल हिंगोरा का अपहरण भी उसी ने किया था। चंदन सोनार, सिंगरौली में 10 साल से होटल कारोबारी चंद्रमोहन के नाम से रहता था। उसे बंगाल पुलिस ने गिरफ्तार किया है। चंदन सोनार ने करीब दो साल पहले 2019 में पश्चिम बंगाल से एक नेता और बड़े व्‍यापारी को किडनैप किया था। उसी मामले में पश्चिम बंगाल पुलिस को उसकी तलाश थी। लंबी छानबीन के बाद पश्चिम बंगाल पुलिस को चंदन सोनार के मध्‍य प्रदेश के सिंगरौली में होटल कारोबारी के रूप में रहने की जानकारी मिली। इसके बाद पुलिस ने मध्‍य प्रदेश पुलिस से सम्‍पर्क साधा। मध्‍य प्रदेश के सिंगरौली जिले की पुलिस को चंद्रमोहन के होटल व्‍यवसाय के बारे में तो पता था लेकिन उसके चंदन सोनार होने और किडनैपिंग कारोबार के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। ‘किडनैपर किंग’ के तौर पर कुख्‍यात चंदन सोनार के खिलाफ अलग-अलग राज्यों में अपहरण के 40 मामले दर्ज हैं। वह मूल रूप से बिहार के हाजीपुर जिले का रहने वाला है।
चंदन सोनार 2011 में जमानत पर छूटा था। तबसे वह मध्‍य प्रदेश के सिंगरौली में आकर चंद्रमोहन के नाम से रहने लगा।
कोतवाली थाना प्रभारी अरुण पांडे ने बताया कि पश्चिम बंगाल पुलिस ने सिंगरौली पुलिस से संपर्क किया था। पश्चिम बंगाल को बर्धमान के शालनपुर थाने में 2019 में दर्ज हुए अपहरण के एक मामले में इसकी तलाश थी। ट्रांजिट रिमांड लेने के बाद चंदन सोनार को लेकर पश्चिम बंगाल पुलिस लौट गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *