भंडारण प्रक्षेत्र में WMS प्रणाली लागू होना काफी महत्वपूर्ण

भंडारण प्रक्षेत्र में WMS प्रणाली लागू होना काफी महत्वपूर्ण

पटना: बिहार राज्य भंडार निगम बी-2. प्रथम तल मौर्यलोक परिसर में भंडारण प्रक्षेत्र में WMS प्रणाली लागू करने के लियेे एकरार पर बिहार राज्य भंडार निगम के भंडारगृहों का सम्पूर्ण कप्यूटरीकृत संचालन
बिहार राज्य भंडार निगम, बिहार सरकार, सहकारिता विभाग अन्तर्गत “राज्य भंडारण एजेंसी” के रूप में घोषित है जो विभिन्न सरकारी/अर्द्धसरकारी तथा अन्य संस्थानों को सामग्रियों के भंडारण के लिए गोदाम की सुविधा उपलब्ध कराता है। बिहार सरकार एवं केन्द्रीय भंडारण निगम के इस संयुक्त उपक्रम अधीनस्थ सभी भंडारगृहों का पूर्ण कम्प्यूटरीकृत एवं ऑनलाईन संचालन हेतु गुरुवार को बन्दना प्रेयषी, भा.प्र.से., सचिव, सहकारिता विभाग, बिहार-सह-अध्यक्ष, बिहार राज्य भंडार निगम के उपस्थिति में केन्द्रीय भंडारण निगम द्वारा प्राधिकृत we Excel Software Pvt. Ltd. के प्रबंध निदेशक नितीन मोगा एवं बिहार राज्य भंडार निगम के प्रबंध निदेशक आशुतोष कुमार वर्मा के बीच
WMS (Warehousing Management Solution) कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर प्रणाली लागू करने संबंधी एकरारनामा सम्पन्न हुआ। उपभोक्ता खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय, भारत सरकार, नई दिल्ली एवं केन्द्रीय भंडार निगम के निदेश के क्रम में पूरे भारत में WMS Software लागू करने वाला
बिहार प्रथम राज्य हो गया है। बिहार में इस कम्प्यूटर प्रणाली के प्रथमतः लागू हो जाने पर इसका अनुसरण कर अन्य राज्यों में भी WMS Software का कार्यान्वयन किया
जायेगा। बिहार राज्य भंडार निगम स्तर पर भंडारण हेतु लागू किये इस सॉफ्टवेयर का नामाकरण e.भंडारण किया गया है।
WMS के माध्यम से बिहार राज्य भंडार निगम के गोदामों में संचालित होने वाली सभी गतिविधियाँ ऑनलाईन हो जायेंगी। इसमें खाद्यान्नों के उठाव से लेकर गोदामों में सुरक्षित संग्रहण एवं निगमन तक की सभी गतिविधियाँ शामिल है। WMS प्रणाली से गोदामों के लिए जमाकर्ता के निबंधन, खाली स्थानों की उपलब्धता की जानकारी, गोदामों का आरक्षण, खाद्यान्नों की प्राप्ति एवं निर्गमण, गुण नियंत्रण, धुनीकरण, कम्प्यूटरीकृत
ऑनलाईन विपत्र भुगतान, अभियंत्रण प्रबंधन आदि कार्य पारदर्शी हो जायेगा तथा त्वरित रूप संपादित होगा। देश के किसी स्थान से भी बिहार राज्य भंडार निगम के गोदाम का
आरक्षण हो सकेगा। इससे वैज्ञानिक भंडारण एवं खाद्यान्न गुणवत्ता संधारित होगी तथा इससे राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत गरीबों को मिलने वाला अनाज के
उपलब्धता में सुरक्षित होगी। धर्मकांटा एवं अन्य अवयव इसके साथ एकीकृत होकर कार्य करेंगे। WMS के राष्ट्रीय Dashboard पर भंडारण विभिन्न प्रतिवेदन ऑनलाईन रहेगी। इस नये कम्प्यूटरीकृत एवं ऑनलाईन प्रबंधन के फलस्वरूप भंडारगृहों में कृषि उत्पाद, खाद्यान्न सहित अन्य अधिसूचित सामग्रियों का भी आगत, भंडारण, रख-रखाव
तथा निर्गत आदि कार्य का Live Transaction सम्पन्न होगा। भंडारगृहों में संचालित होने वाले सभी कार्यों का प्रबंधन एवं अनुश्रवण भी समयपरक होगा।
भंडारण प्रक्षेत्र में WMS प्रणाली लागू होना काफी महत्वपूर्ण है। इस क्षेत्र में बिहार की अग्रणी भूमिका अन्य प्रदेशों के लिए अनुकरणीय होगी। इस मौके पर सचिव, सहकारिता विभाग ने निदेशित किया की यथाशीघ्र बिहार राज्य भंडार निगम के सभी
कार्यों को पेपरलेस भी किया जाय। कार्यक्रम में केन्द्रीय भंडारण निगम, बिहार राज्य भंडार निगम तथा सहकारिता
विभाग के विभिन्न /पदाधिकारी भाग लिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *