भाजपा नेता और फिक्की के चेयरमैन ऋतुराज सिन्हा पहुंचे बहियारा, राजनीति और रोजगार के क्षेत्र में युवाओं को आगे बढ़ने की दी प्रेरणा

भाजपा नेता और फिक्की के चेयरमैन ऋतुराज सिन्हा पहुंचे बहियारा, राजनीति और रोजगार के क्षेत्र में युवाओं को आगे बढ़ने की दी प्रेरणा


आरा: भारतीय जनता के राष्ट्रीय युवा नेता,फिक्की के पब्लिक सिक्युरिटी इंडस्ट्री(पीएसआई) के चेयरमैन और दुनिया की बड़ी निजी सुरक्षा एजेंसी एसआईएस समूह के प्रबन्ध निदेशक ऋतुराज सिन्हा का भोजपुर दौरा राजनीति और रोजगार को लेकर युवाओ में नया जोश भर गया।
ऋतुराज के दौरे से रोजगार को लेकर आशान्वित भोजपुर के युवाओं को उम्मीद की नई रौशनी मिली तो देश के नवनिर्माण में अपनी भूमिका निभाते हुए देश की संस्कृति को वापस लाने के साथ साथ राष्ट्र को प्रगति व विकास की राह पर आगे बढ़ाने में लगे भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मिशन को आगे बढ़ाने को ले भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं को नई शक्ति भी मिल गई।
स्वस्थ भारत स्वस्थ पीढ़ी के लक्ष्य के साथ शुरू हुई जैविक खेती को भोजपुर के लोगो से इसे अपनाने की बात कहकर ऋतुराज ने अपने दौरे के दौरान नए भारत की परिकल्पना और देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपनो को साकार करने का साफ संदेश भी दे दिया।
कोरोना काल मे लाखों निजी सुरक्षा कर्मियों को साथ लेकर जान की परवाह किये बिना देश के विभिन्न राज्यो में देश के नागरिकों को वैश्विक महामारी कोविड-19 से बचाव की दिशा में किये गए ऐतिहासिक कार्यो की सराहना करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा उन्हें रियल हीरो बताने के बाद भोजपुर के युवाओं के बीच उनसे मिलने को लेकर खासा उत्साह देखा गया।
ऋतुराज बुधवार को जैसे ही अपने गांव कोइलवर प्रखण्ड के बहियारा स्थित पैतृक आवास पहुंचे उनसे मिलने वाले युवाओ का तांता लग गया।युवाओ के बीच उनकी लोकप्रियता को देख लोग फुले नही समा रहे थे।
ऋतुराज से मिलने न सिर्फ जिले भर के भाजपा कार्यकर्ता,युवक बहियारा पहुंचे हुए थे बल्कि उनके गांव से सम्बद्ध पंचायत के जनप्रतिनिधि,व्यवसायी,किसान,मजदूर सबके सब जुटे हुए थे।सबने कहा कि पूरे देश मे बहियारा गांव और पंचायत का परचम लहराने वाले अपने गांव के ऋतुराज सिन्हा पर हमें गर्व का अनुभव होता है।
सबने कहा कि समय समय पर मार्गदर्शन देने और गांव समाज को नई ऊर्जा का संचार कराने आप बहियारा गांव आते रहें।उन्होंने सबसे वादा की कि उनकी आशाओं और उम्मीदों को वे जरूर पूरा करेंगे।
बुधवार को भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय युवा नेता,फिक्की के पब्लिक सिक्युरिटी इंडस्ट्री(पीएसआई) के चेयरमैन और एसआईएस समूह के प्रबन्ध निदेशक ऋतुराज सिन्हा बहियारा में आयोजित एक राज्यस्तरीय कार्यकम के पूरी तैयारियों और व्यवस्थाओं का जायजा लेने पहुंचे तो इस दौरान उन्होंने एसआईएस के बहियारा में चल रहे ट्रेनिंग सेंटर का निरीक्षण किया।उन्होंने ट्रेनिंग सेंटर की आधारभूत संरचना,क्लास रूम,ट्रेनिंग सुविधाओं आदि का जायजा लिया और इसे और अधिक विकसित करने का अधिकारियों को निर्देश दिया।
उन्होंने ट्रेनिंग सेंटर के अधिकारियों को ये भी निर्देश दिए कि भोजपुर और आसपास के जिलों के बेरोजगार युवकों को अधिक से अधिक रोजगार देने के लिए उन्हें प्रशिक्षित करें और ऐसे जगहों पर उनकी नियुक्ति करें जहां उन्हें अधिक से अधिक वेतन मिल सके और वे अपने और अपनी परिवार की आर्थिक स्थिति को मजबूत कर सकें।
उन्होंने भोजपुर और आसपास के जिलों के बेरोजगार नौजवानों की कमजोर आर्थिक स्थिति पर चिंता जताते हुए ऐसे लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए बहियारा के ट्रेनिंग सेंटर को संजीवनी बताया और कहा कि यहां से ट्रेनिंग लेकर रोजगार पाने वाले नौजवान न सिर्फ अपना और अपने परिवार की आर्थिक स्थिति को मजबूत कर सकते हैं बल्कि पीएम मोदी के आत्मनिर्भर भारत की परिकल्पना को भी साकार कर देश की प्रगति और विकास का वाहक बन सकते हैं।
ऋतुराज सिन्हा ने स्वस्थ भारत स्वस्थ पीढ़ी के लक्ष्य के साथ बहियारा गांव में सोन नद के किनारे आद्या ऑर्गेनीक कृषि फार्म पर शुरू हुई जैविक कृषि का भी निरीक्षण किया और लोगों से ऐसी कृषि को अपनाने की अपील की।उन्होंने कहा कि ऐसी कृषि से ही स्वस्थ भारत और स्वस्थ पीढ़ी का निर्माण सम्भव है।उन्होंने बहियारा गांव में आद्या ऑर्गेनीक कृषि फार्म पर सफलता पूर्वक उपजाई गई स्ट्राबेरी की खेती की भी प्रशंसा की और कहा कि इससे किसानों की आय में उम्मीद से अधिक की वृद्धि होगी।ऐसी कृषि से किसान समृद्ध,सम्पन्न और खुशहाल होंगे।
बहियारा यात्रा के दौरान उन्होनें देशी गायों की गौशाला को भी देखा और गौशाला में जाकर गौ माता को सहलाया,स्नेह दिया और उनका आशीर्वाद भी लिया।
ऋतुराज को देख गौ माताएं मानो खुशी से झूम उठी हो।
बहियारा गांव में ऋतुराज सिन्हा के दौरे ने किसानों,युवाओ,व्यवसायियों और राजनैतिक कार्यकर्ताओ में एक साथ कई उम्मीदें जगा गई और उनका भोजपुर दौरा जिले के हर वर्ग के नागरिकों में नई उम्मीद और नई ऊर्जा का संचार करा गया।

मुझे कमरे की आवश्यकता नही,ये कमरा भी स्वयंसेवक को दे दें कह कर ऋतुराज सबके दिलों पर छा गए-

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय युवा नेता, फिक्की के प्राइवेट सिक्युरिटी इंडस्ट्री(पीएसआई) के चेयरमैन और एसआईएस समूह के प्रबन्ध निदेशक ऋतुराज सिन्हा बुधवार को जब अपने पैतृक आवास बहियारा गांव पहुंचे तो वहां राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का अभ्यास वर्ग चल रहा था।कार्यकम को लेकर दक्षिण बिहार प्रान्त के आरएसएस के कई बड़े स्वयंसेवक,प्रचारक और विस्तारक आवासीय परिसर में प्रवास पर हैं।
तीन वर्ष पूर्व आरएसएस के सर संघ चालक मोहन भागवत के बहियारा आगमन,वहां रात्रि विश्राम और प्रवास को लेकर आरएसएस के बाल काल के स्वयंसेवक, तत्कालीन राज्यसभा सांसद और ऋतुराज सिन्हा के पिताजी आर के सिन्हा ने अपने प्राचीन पैतृक आवास को नए सिरे से विस्तारित किया था और इसमें दर्जनों कमरों का निर्माण हुआ है।
इन सभी कमरों को आरएसएस के अधिकारियों और स्वयंसेवको के ठहरने के लिए आवंटित किया गया है जहां स्वयंसेवक रह रहे हैं।आरएसएस के प्रांत प्रचारक की सलाह पर व्यवस्थापकों ने ऋतुराज सिन्हा के प्रस्तावित बहियारा आगमन को ध्यान में रख कर इन्ही दर्जनों कमरों में से एक भागवत कक्ष को उनके लिए सुरक्षित रख दिया था।
बहियारा आने के बाद आवासीय कमरों में ठहरे आरएसएस के अधिकारियों और स्वयंसेवको से मिलने ऋतुराज जब घर के भीतर पहुंचे तो उन्हें पता चला कि उनके आगमन को ध्यान में रख एक कमरा भागवत कक्ष को सुरक्षित रखा गया है।
वहां मौजूद आरएसएस के प्रांत प्रचारक से उन्होंने हाथ जोड़कर आग्रह किया कि इस कमरे को भी आरएसएस के किसी स्वयंसेवक के लिए आवंटित कर दें तो मैं धन्य हो जाऊंगा।
ऋतुराज की इस दिलेरी और आरएसएस के स्वयंसेवको के प्रति प्रेम को देखकर वहां मौजूद लोगों की आंखे खुशी से नम हो गई।
वे अपने लिए सुरक्षित रखे गए इस कमरे में एक क्षण भी नही रुके और संघ के अधिकारियों के कमरे में बैठकर उनसे बातचीत की,आशीर्वाद लिया और मार्गदर्शन लेकर इस उम्मीद के साथ बाहर निकले की यहां ऐसे ही स्वयंसेवक बन्धुओ का आगमन होता रहे।
ऋतुराज की भावना को प्रान्त प्रचारक ने भी समझा और उन्हें आश्वस्त किया कि इस कमरे को भी स्वयंसेवको को आज ही आवंटित कर दिया जाएगा।
उन्होंने प्रान्त प्रचारक और अन्य संघ के मौजूद अधिकारियों से आग्रह किया कि आवासीय परिसर में साल में कम से कम एकबार कोई न कोई कार्यक्रम यहां आयोजित करें तो मेरे लिए यह सौभाग्य की बात होगी।
चंद घण्टो में ही ऋतुराज अपने मृदुभाषी व्यक्तित्व,योग्य और कुशल नेतृत्व,असीमित दायरा और समाज को एक सूत्र में बांधने की क्षमता का अहसास दिलाकर पटना और फिर दिल्ली के लिए निकल तो गए लेकिन उन्होंने बहियारा गांव में अभ्यास वर्ग के लिए आये स्वयंसेवको,मौजूद लोगों और सामाजिक व राजनैतिक कार्यकर्ताओ के दिलो में अपनी दिलेरी, उदारता और अपनापन की अमिट छाप छोड़ गए।
सभी को उनके गांव आने का हमेशा इंतजार रहेगा और उन्होंने समय समय पर गांव आने का वहां मौजूद लोगो को भरोसा भी दिलाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *