युवाओं के लिए और बेहतर तकनीकी प्रशिक्षण की व्यवस्था करें, ताकि उन्हें बेहतर रोजगार मिल सकेः मुख्यमंत्री

युवाओं के लिए और बेहतर तकनीकी प्रशिक्षण की व्यवस्था करें, ताकि उन्हें बेहतर रोजगार मिल सकेः मुख्यमंत्री

• आत्मनिर्भर बिहार के सात निश्चय पार्ट-2 के तहत श्रम संसाधन तथा विज्ञान एवं प्रावैधिकी विभाग से कार्यान्वित होने वाली योजनाओं को तेजी से लागू करें
• मेगा स्किल सेंटर्स जल्द से जल्द खोले जाएं
• सभी पॉलिटेक्निक कॉलेजों में सेंटर ऑफ एक्सिलेंस बनाएं
• युवाओं के लिए और बेहतर तकनीकी प्रशिक्षण की व्यवस्था करें, ताकि उन्हें बेहतर रोजगार मिल सके
• ग्रामीण क्षेत्रों में भी विकास के कई कार्य किए गए हैं। इनसे जुड़े कार्यों के मेंटेनेंस के लिए भी ट्रेंनिंग हो
• इंप्रुव्ड टेक्नोलॉजी को लेकर एक टीम बनाएं जो नॉलेज के अपग्रेडेशन से अवगत रहे

पटनाः मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 1 अणे मार्ग स्थित संकल्प में श्रम संसाधन तथा विज्ञान एवं प्रावैधिकी विभाग की समीक्षा बैठक की।
समीक्षा के दौरान आत्मनिर्भर बिहार के सात निश्चय पार्ट-2 के तहत श्रम संसाधन तथा विज्ञान एवं प्रावैधिकी विभाग से कार्यान्वित होने वाली योजनाओं पर विस्तृत चर्चा हुई।
समीक्षा बैठक में श्रम संसाधन के सचिव मिहिर कुमार सिंह ने आत्मनिर्भर बिहार के सात निश्चय पार्ट-2 के तहत विभाग से जुड़ी योजनाओं के संबंध में प्रस्तुतीकरण दिया। प्रस्तुतीकरण में आईटीआई को सेंटर ऑफ एक्सिलेंस बनाना, नए कोर्सेस/ ट्रेड्स इंट्रोड्यूस करना, नेशनल स्किल ट्रेनिंग इंस्टीच्यूट फॉर वुमेन, सभी जिलों में मेगा स्किल सेंटर बनाना तथा विभाग द्वारा किए जा रहे अन्य कार्यों के बारे में विस्तृत जानकारी दी।
विज्ञान एवं प्रावैधिकी विभाग के सचिव लोकेश कुमार सिंह ने आत्मनिर्भर बिहार के सात निश्चय पार्ट-2 के तहत विभाग से जुड़ी योजनाओं के संबंध में प्रस्तुतीकरण दिया। प्रस्तुतीकरण में पॉलिटेक्निक संस्थानों में गुणवत्ता बढ़ाना, बाजार एवं उद्योगों के अनुरुप बेहतर रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने हेतु छात्रों की दक्षता में वृद्धि हेतु कार्य योजना, पॉलिटेक्निक संस्थानों में उच्चस्तरीय सेंटर ऑफ एक्सिलेंस की स्थापित करने की योजना, संस्थानों में अध्ययनरत छात्रों को कौशल प्रदान करने हेतु डिप्लोमा शिक्षा के साथ-साथ रोजगारोन्मुखी प्रशिक्षण कोर्सेस की व्यवस्था तथा विभाग द्वारा किए जा रहे अन्य कार्यों के बारे में विस्तृत जानकारी दी गयी।
समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में युवाओं के लिए कई कार्यक्रम चलाए गए हैं। युवाओं को रोजगार में मदद करने हेतु स्वयं सहायता भत्ता योजना, युवाओं को कंप्यूटर, संवाद कौशल एवं व्यवहार कौशल का प्रशिक्षण दिया गया है। उन्होंने कहा कि युवाओं को और बेहतर तकनीकी प्रशिक्षण की व्यवस्था करें, ताकि छात्रों की दक्षता में वृद्धि हो सके और बेहतर रोजगार मिल सके।
मुख्यमंत्री ने कहा कि बैठक में जानकारी दी गई है कि पॉलिटेक्निक संस्थानों में अध्ययनरत छात्रों को डिप्लोमा शिक्षा के साथ-साथ संवाद कौशल एवं व्यवहार कौशल का प्रशिक्षण दिया गया है, जिससे उन्हें फायदा हुआ है और इससे उनका बेहतर प्लेसमेंट हुआ है, यह खुशी की बात है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी जिलों में मेगा स्किल सेंटर जल्द से जल्द खोले जाएं, ताकि नए कौशल का प्रशिक्षण पाकर अधिक से अधिक युवा रोजगार प्राप्त कर सकें। कुशल युवा केंद्रों एवं बीआरसीसी पर भी अन्य कार्यों की तकनीकी प्रशिक्षण की व्यवस्था करवाने के लिए आकलन कराएं। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में भी विकास के कई कार्य किए गए हैं। इनसे जुड़े कार्यों के मेंटेनेंस के लिए भी ट्रेंनिंग करवाएं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी पॉलिटेक्निक कॉलेजों में सेंटर ऑफ एक्सिलेंस बनाएं। हर विभाग से जुड़े हुए नई तकनीक को भी बच्चों को पढ़ाया जाए। इंप्रुव्ड टेक्नोलॉजी को लेकर एक टीम बनाएं जो नॉलेज के अपग्रेडेशन से अवगत रहे। अध्यापक नई टेक्नोलॉजी के प्रति अपडेट रहें ताकि बच्चों को कोर्सेस के साथ जुड़े हुए नई तकनीक की बेहतर जानकारी दे सकें।
बैठक में विज्ञान एवं प्रावैधिकी मंत्री अशोक कुमार चौधरी, श्रम संसाधन मंत्री जीवेश कुमार, मुख्य सचिव दीपक कुमार, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, श्रम संसाधन विभाग के सचिव मिहिर कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के सचिव मनीष कुमार वर्मा, मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार, विज्ञान एवं प्रावैधिकी विभाग के सचिव लोकेश कुमार सिंह, सहित श्रम संसाधन तथा विज्ञान एवं प्रावैधिकी विभाग के अन्य अधिकारी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *