देश का पहला स्काई हैंगिंग वॉक और दूसरा शीशे का पुल बना राजगीर में

देश का पहला स्काई हैंगिंग वॉक और दूसरा शीशे का पुल बना राजगीर में

राजगीर में नेचर सफारी और ज़ू सफारी के साथ गंगा का पानी भी होगा उपलब्ध

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शनिवार को राजगीर की नेचर सफारी में निर्माणाधीन ग्लास फ्लोर ब्रिज (स्काई वाक),जीप लाईन, जीप बाइक एवं नेचर सफारी के मेन कैम्प एरिया का निरीक्षण किया। निरीक्षण के क्रम में मुख्यमंत्री ने सिक्युरिटी, सेफ्टी एवं प्रोटेक्शन का पूरा ध्यान रखने का अधिकारियों को निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि इसके लिए प्रोटेक्टिव एक्सपर्ट की भी मदद लीजिए। मुख्यमंत्री ने नेचर सफारी एरिया में कार्यरत श्रमिकों एवं कर्मियों के साथ सामुहिक तस्वीर खिंचवाई।

पत्रकारों से बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने राजगीर में नेचर सफारी के साथ-साथ ज़ू सफारी बनाने की बात कही थी और यह बहुत अच्छे ढंग से बनाया जा रहा है। अधिकारियों से इसके सुरक्षा और रखरखाव के संबंध में बात हुई है। यह पूरी तरह से प्रोटेक्टेड रहे, इस संबंध में हमनें कई सुझाव भी दिए हैं। यहां आकर देखने और घूमने से युवा पीढ़ी को प्रकृति के संबंध में काफी जानकारी होगी और वे पर्यावरण के प्रति प्रेरित होंगे। अधिकारियों ने जानकारी दी है कि मार्च तक ग्लास फ्लोर ब्रिज का लोकार्पण कर दिया जाएगा । यहां सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए पुलिस की परमानेंट तैनाती की जाएगी ताकि गलत प्रवृत्ति का व्यक्ति किसी को नुकसान न पहुंचाए। तकनीकी विशेषज्ञ भी रेगुलर ड्यूटी में यहां डिप्यूट रहेंगे।

 मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रकृति और पर्यावरण के प्रति लोगों में जागृति आये, इसके लिए जल-जीवन-हरियाली अभियान चलाया जा रहा है। बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण, सौर ऊर्जा को बढ़ावा और जल संरक्षण की दिशा में तेजी से काम आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि जल और हरियाली है तभी जीवन सुरक्षित है। राजगीर के इलाके में पीने के लिए गंगा नदी का स्वच्छ जल उपलब्ध कराया जा रहा है ताकि लोगों को भूजल निकालने की जरूरत नही पड़े। इससे नालंदा विश्वविद्यालय, पुलिस अकादमी जैसे अन्य सभी संस्थानों को भी पेयजल आसानी से उपलब्ध होगा और लोगों को भूजल स्तर की कमी से होनेवाली समस्या से भी छुटकारा मिलेगा। यहां खेल के लिए भी विश्वविद्यालय बनाने का निर्णय लिया गया है। राजगीर में भगवान बुद्ध, भगवान महावीर  का राजगीर में आना हुआ है और यह काफी ऐतिहासिक भूमि है। इसके इतिहास को सुरक्षित कर नई पीढ़ी को प्रेरित करना ही हमलोगों का उद्देश्य है ताकि उनकी जागृति और बढ़े। हमलोग हर जगह काम कर लोगों को प्रेरित कर रहे हैं। लोग यहां आए तो हर जगह जाए इसके लिए टूरिज्म का केंद्र और अधिक विकसित किया जा रहा है। इससे पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि नेचर सफारी इस प्रकार से बनाया जा रहा है कि लोग यहां आकर एक-एक चीज को एन्जॉय कर सके। इससे पर्यावरण के दृष्टिकोण से प्रकृति के प्रति हर वर्ग के लोगों में जागृति आएगी इसलिए जल्दी से जल्दी काम पूरा करने का निर्देश दिया गया है। यहां दिन में ही सभी गतिविधियां होगी और सुरक्षा का पुख्ता प्रबंध होगा। वन एवं पर्यावरण विभाग की तरफ से हर जरूरी सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। आवागमन को भी सुगम किया जाएगा। वेणुवन का भी अच्छा काम हुआ है। युवक-युवतियां भी यहां आए, देखे और प्रकृति की खूबसूरती का आनंद लें।

इसके पश्चात मुख्यमंत्री ने जू सफारी का भ्रमण कर एनिमल केज, किचेन एवं अस्वस्थ जानवरों के देखभाल हेतु निर्मित कक्ष के विषय मे अधिकारियों से पूरी जानकारी ली।

मुख्यमंत्री ने हेलीपैड पर सांसद कौशलेंद्र कुमार, विधायक श्रवण कुमार, पूर्व विधायक चन्द्रसेन कुमार, पूर्व विधायक सुनील कुमार से मुलाकात की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *