127 बिहारी बंधुआ मजदूरों को यूपी से छुड़ाकर भेजा गया नवादा

127 बिहारी बंधुआ मजदूरों को यूपी से छुड़ाकर भेजा गया नवादा


अलीगढ़: राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने अलीगढ़ जिला के बंसाली गांव में एक ईंट भट्टे से 127 बंधुआ मजदूरों को मुक्त कराया। इन 127 लोगों में 67 बच्चे भी शामिल हैं। छुड़ाए गए सभी लोगों को बिहार के नवादा भेज दिया गया है। पिछले महीने एक मजदूर ने ईंट भट्ठा मालिक के रिश्तेदार द्वारा एक नाबालिग लड़की के साथ कथित यौन उत्पीड़न करने की प्राथमिकी दर्ज करायी थी। इसके बाद संदिग्ध को अरेस्ट कर पुलिस ने उसे न्यायिक हिरासत में भेजा दिया था। फिर क्या वहां कामगार मजदूरों के साथ मालिक द्वारा कहर बरपाया जाने लगा। इससे परेशान मजदूर अपने घर वापस लौटना चाहते थे। इगलास के उप.मंडल मजिस्ट्रेट कुलदेव सिंह ने कहा कि आरोपों की जांच के लिए जिला मजिस्ट्रेट द्वारा 3 सदस्यीय समिति का गठन किया गया था और पूछताछ के दौरान यह पाया गया कि मजदूर बिहार वापस जाना चाहते हैं। लिहाजा उनके लिए एक बस की व्यवस्था की गई और वे मंगलवार को रवाना हो गए। ज्ञात हो कि एक मजदूर को प्रति 1,000 ईंटें बनाने पर 400 रुपये का भुगतान किया जाता था। इस काम के लिए मजदूरों ने पहले से ही 25 हजार प्रति व्यक्ति एडवांस ले लिया था। साथ ही पुलिस ने श्री राधे ईट उद्योग की मालकिन मुन्नी देवी और उसके बेटे जितेंद्र सिंह के खिलाफ बंधुआ श्रम प्रणाली (उन्मूलन) अधिनियम 1976 की धारा 16, 17 के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *