23 जवान हुए शहीद, 15 जवानों के शव मिले, 8 पहले हुए थे शहीद

23 जवान हुए शहीद, 15 जवानों के शव मिले, 8 पहले हुए थे शहीद

बीजापुरः छत्तीसगढ़ के सुकमा मुठभेड़ में सुरक्षाबलों को बड़ा नुकसान हुआ है। नक्सलियों के साथ मुठभेड़ के बाद 21 जवान लापता थे, उनमें से 15 जवानों के शव मिले हैं। वहीं, आठ जवान पहले शहीद हुए थे। कुल मिलाकर इस मुठभेड़ में 23 जवान अभी तक शहीद हुए हैं। जंगल में बाकी जवानों की तलाश जारी है। सैकड़ों की संख्या में जवान जंगल में सर्च ऑपरेशन के लिए भेजे गए हैं। वहीं, घायल जवानों की संख्या भी 31 पहुंच गई है।

गृह मंत्री अमित शाह ने सीएम भूपेश बघेल से बात की है। इसके साथ ही सीआरपीएफ के डीजी रायपुर पहुंच गए हैं। मुठभेड़ वाली जगह पर बड़े पैमाने पर सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है। 31 घायलों में 16 सीआरपीएफ के जवान हैं। सीएम भूपेश बघेल ने कहा है कि लापता जवानों की तलाश जारी है। हलांकि न्यूज एजेंसी एएनआई के अनुसार 14 शव को देखा है, लेकिन ये शव किसके हैं, इसकी पहचान नहीं हो पाई है। लापता जवानों के साथ किसी प्रकार की कोई अनहोनी न हो इसको लेकर हेलिकॉप्टर से लगातार उस इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाए जा रहे हैं।
लापता जवानों की तलाश के लिए मुठभेड़ वाले इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है। राज्य के नक्सल विरोधी अभियान के पुलिस उप महानिरीक्षक ओपी पाल ने बताया शुक्रवार की रात बीजापुर और सुकमा जिले से केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के कोबरा बटालियन, डीआरजी और एसटीएफ के संयुक्त दल को नक्सल विरोधी अभियान में रवाना किया गया था। उन्होंने बताया कि नक्सल विरोधी अभियान में बीजापुर जिले के तर्रेम, उसूर और पामेड़ से और सुकमा जिले के मिनपा और नरसापुरम से लगभग दो हजार जवान शामिल थे।
पुलिस अधिकारी ने बताया कि शनिवार दोपहर लगभग 12 बजे बीजापुर-सुकमा जिले की सीमा पर सुकमा जिले के जगरगुंड़ा थाना क्षेत्र के अंतर्गत जोनागुड़ा गांव के करीब नक्सलियों की पीएलजीए बटालियन तथा तर्रेम के सुरक्षा बलों के मध्य मुठभेड़ हुई। मुठभेड़ तीन घंटे से अधिक समय तक चली। मुठभेड़ में कोबरा बटालियन का एक जवान, बस्तरिया बटालियन के दो जवान और डीआरजी के दो जवान शहीद हुए हैं। इस दौरान 30 जवान घायल हुए हैं। घायल जवानों में से सात जवानों का रायपुर के अस्पताल में और 23 जवानों का इलाज बीजापुर के अस्पताल में किया गया है। वहीं, मौके से एक महिला नक्सली का शव बरामद हुआ है। इसे लेकर रायपुर में हाईलेवल मीटिंग हुई। बैठक में बीजापुर एनकाउंटर को लेकर चर्चा चल रही है। सीएम भूपेश बघेल ने भी घटना को लेकर दुख व्यक्त किया है। अब देखने वाली बात ये है कि गृह मंत्री से लेकर सूबे के मुखिया तक इन शहीदों के प्रति अपनी संवेदना तो व्यक्त कर रहे हैं लेकिन आगे कितना इन नक्सलियों से निपट पाएंगे और उन शहीदों को उनका हक दे पाएंगे यह कह पाना कठिन लगता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *