बिहार में पंचायत चुनाव पर 21 अप्रैल को हाईकोर्ट सुना सकती है फैसला

बिहार में पंचायत चुनाव पर 21 अप्रैल को हाईकोर्ट सुना सकती है फैसला

पटनाः बिहार में पंचायत चुनाव कब होगी तथा बैलेट पेपर से या ईवीएम से होगी को लेकर कुछ स्पष्ट नहीं है जिससे प्रत्याशियों के बीच उहापोह की स्थिति बनी हुई है। आपको बता दूं कि बिहार और केंद्रीय निर्वाचन आयोग के बीच ईवीएम और बैलेट पेपर का विवाद हाईकोर्ट में अटका हुआ है।हाई कोर्ट में लगातार इस मसले पर फैसला टल रहा है। सबसे पहले खबर आई थी कि पटना हाई कोर्ट इस मामले में 19 फरवरी को फैसला सुनाएगा लेकिन ऐसा नहीं हो पाया। तब से अब तक सात बार इस मसले पर फैसला टल चुका है। अब इस मामले में 12 अप्रैल को हाई कोर्ट का फैसला आने की उम्मीद है। हाई कोर्ट का फैसला आने में हुई देरी के चलते ये बात साफ हो चुकी है कि बिहार में तय समय पर पंचायत चुनाव नहीं होंगे। राज्य सरकार बिहार में तय समय पर पंचायत चुनाव कराने को लेकर तैयार है। हालांकि सरकार का ये भी कहना है कि हाई कोर्ट से फैसला आने के बाद ही सरकार दूसरे विकल्प पर विचार करेगी। यहां गौर करने वाली बात यह है कि पंचायतों की वर्तमान कमेटियां 15 जून तक ही प्रभावी रह सकेंगी। ऐसे में नियम के मुताबिक 15 जून से पहले किसी भी हाल में चुनाव जरूरी है। 2016 में 25 फरवरी को ही चुनाव की अधिसूचना जारी कर दी गई थी। पहले चरण का मतदान भी 24 अप्रैल को करा लिया गया था। इस बार अगर 21 अप्रैल को हाई कोर्ट अपना फैसला सुना भी देती है तो भी चुनाव प्रक्रिया को पूरा करने में अगस्त तक का समय लग सकता है। माना जा रहा है कि बिहार में 9 चरणों में पंचायत चुनाव संपन्न कराए जा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *