बिहार विधान परिषद की 12 राज्यपाल कोटे के सीटों पर मनोनयन पर भाजपा-जदयू में बनी सहमति, जल्द होगा एलान

बिहार विधान परिषद की 12 राज्यपाल कोटे के सीटों पर मनोनयन पर भाजपा-जदयू में बनी सहमति, जल्द होगा एलान

पटना:  बिहार विधानसभा चुनाव का ऐलान होने से पहले ही राज्यपाल कोटे वाली विधान परिषद की 12 सीटों के लिए मनोनयन कर दी जाएगी।
सूत्रों के अनुसार जदयू-भाजपा के बीच विधान परिषद की 12 सीटों के लिए बात पक्की हो चुकी है। राज्यपाल कोटे से भरी जाने वाली 12 सीटों पर मनोनयन का काम मई 2020 से ही लंबित है। इसके अलावे स्नातक और शिक्षक कोटे से भरी जाने वाली सीटों पर भी कोरोना संकट की वजह से चुनाव नहीं हो पाया है। इसको ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री नीतीश को हरी झंडी दे दी गई है। एनडीए के आधिकारिक सूत्रों कि मानें तो विधान परिषद की 12 सीटों के लिए भाजपा की तरफ से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को हरी झंडी दे दी गई है।अगले कुछ दिनों में खाली पड़ी 12 सीटों पर मनोनयन संभव है। वहीं भाजपा के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को इसके लिए अधिकृत कर दिया गया है।
राज्यपाल मनोनयन में भाजपा को भी मिलेगी हिस्सेदारी,लोजपा का भी दावा है। ज्ञात हो कि वर्ष 2014 में जब राज्यपाल कोटे से 12 सदस्यों का मनोनयन हुआ था तो नीतीश कुमार की अकेली जदयू सरकार थी। ऐसे में उसने सभी सीटों पर अपने लोग भेजे थे। हालांकि बीच में ही नरेन्द्र सिंह की सदस्यता खत्म हो जाने के कारण वह स्थान रिक्त हो गया था। बाद में लोजपा के पशुपति कुमार पारस को उनकी जगह विधान परिषद भेजा गया था। अब स्थिति बदली हुई है। जदयू के साथ भाजपा भी सरकार में है। ऐसे में 12 सीटों में उसकी हिस्सेदारी भी तय है और उसे 4-5 सीटें मिल सकती है। उधर सहयोगी दल के रुप में लोजपा का भी दावा है। अब देखने वाली बात ये है कि नीतीश कुमार इस चुनावी साल में कैसे गणित को फिट करते हैं ये तो उनके अलावे कोई नही जान सकता है। हालांकि इस सूचना के बाद कई नेताओं के दिल की ध्दलन बढ़ गई हैम तो कइयों की उम्मीदों के पर निकल आये हैं। अब आगे क्या होगा बहुत जल्द इसका पता चल जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *