राष्ट्रीय धरोहर खुदा बख्श लाईब्रेरी का अब एक हिस्सा तो टूट जाएगा

राष्ट्रीय धरोहर खुदा बख्श लाईब्रेरी का अब एक हिस्सा तो टूट जाएगा


पटनाः यूनेस्को द्वारा हेरिटेज बिल्डिंग घोषित पटना का खुदा बख्श लाइब्रेरी का एक हिस्से पर टूटने का खतरा मंडरा रहा है। अशोक राजपथ को जाम से राहत दिलाने के लिए सरकार पटना के गांधी मैदान के कारगिल चौक से साइंस कॉलेज तक एक फ्लाई ओवर का निर्माण करने जा रही है। इस वजह से खुदा बख्श लाइब्रेरी का एक हिस्सा लॉर्ड कर्जन रीडिंग रूम को तोड़ने की स्थिति उत्पन्न हो गई है। हलांकि खुदा बख्श लाइब्रेरी प्रशासन ने सरकार से इसे टूटने से बचाने की गुहार लगाई है।

इस लाइब्रेरी में महात्मा गांधी राजेंद्र प्रसाद सहित देश की बड़ी बड़ी हस्तियों ने अपने कदम रखे और इस धरोहर के महत्व को दुनिया को बताया। पटना के गांधी मैदान स्थित कारगिल चौक से साइंस कॉलेज तक एक फ्लाई ओवर का निर्माण किया जाना है जिससे अशोक राजपथ पर लगने वाले जाम से लोगों को राहत मिल सकेगा। उस फ्लाई ओवर के निर्माण का जो रास्ता चुना गया है वह खुदा बख्श लाइब्रेरी के बीचोबीच से गुजरता है, ऐसे में अगर इसी नक्शे पर फ्लाईओवर का निर्माण किया गया तो 1905 में बने लॉर्ड कर्जन रीडिंग रूम जो खुदा बख्श लाइब्रेरी का एक अहम हिस्सा है उसे तोड़ना पड़ सकता है। खुदा बख्श लाइब्रेरी के डायरेक्टर को पुल निर्माण निगम के तरफ से एनओसी देने के लिए नोटिस दिया गया है लेकिन खुदा बख्श लाइब्रेरी के डायरेक्टर सहित कई साहित्यिक संस्थाओं ने इसका विरोध किया है।
खुदाबख्श लाइब्रेरी की डायरेक्टर ने पटना के जिलाधिकारी को इस रास्ते को बदलकर दूसरे रास्ते से पुल निर्माण की मांग की है और, साथ ही चार अल्टरनेटिव रास्ते भी उन्होंने जिला प्रसाशन को सुझाए हैं जिसमें पहला रास्ता कारगिल चौक से कलेक्ट्रेट होते हुए गंगा एक्सप्रेस वे पर मिलाने का है तो दूसरा रास्ता कारगिल चौक से बीएन कॉलेज होते हुए गंगा एक्सप्रेसवे से जोड़ने का। तीसरा रास्ता कारगिल चौक से पीएमसीएच के मुख्य द्वार से घुमा कर पीएमसीएच के अंदर से साइंस कॉलेज के तरफ निकालने का है। हालांकि पटना के जिलाधिकारी का कहना है कि इस निर्माण से बिल्डिंग का कोई नुकसान नहीं होगा। लॉर्ड कर्जन रीडिंग रूम को वहां से हटाकर उसी कैंपस में दूसरी जगह बनाया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *